BIG BREAKING : कोरोना वायरस का सबसे ज्यादा खतरा बिहार में !

न्यूज रूम : कई राज्यों में कोरोना वायरस के मामले की पुष्टि के बाद बिहार में भी अलर्ट जारी कर दिया गया है.। स्वास्थ्य विभाग ने बिहार को सेंसेटिव जोन में रखा है!स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने मंगलवार को आपात बैठक की और तैयारियों पर मंथन किया।नेपाल से सटे होने के कारण बिहार में कोरोना वायरस का सबसे ज्यादा खतरा है और इसे सेंसेटिव जोन में रखा गया है।


बिहार में नोवेल कोराना वायरस के खतरों को देखते हुए नेपाल से सटे बिहार के सभी सात प्रवेश द्वारों पर स्वास्थ्य शिविर लगाकर सभी संदिग्ध मरीजों की जांच की जा रही है। देश के विभिन्न हिस्सों में कोरोना के तीन मरीजों की पुष्टि होने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने सभी सरकारी अस्पतालों को अलर्ट कर दिया है।कोरोना वायरस से पीड़ित मरीजों की पहचान के लिए पटना और बोधगया एयरपोर्ट पर विशेष नजर रखी जा रही है। इन दोनों एयरपोर्ट पर अब तक 16 हजार से अधिक यात्रियों की जांच की गयी है। हालांकि इनमें एक भी यात्री में कोरोना के संदिग्ध लक्षण नहीं पाए गए है। वहीं, विदेशों से वाया कोलकाता एयरपोर्ट से आने वाले मरीजों के बारे में भी जानकारी रखी जा रही है।
बिहार में अब तक 121 संदिग्ध मरीजों की पहचान हुई है। इनमें 26 मरीजों ने 14 दिनों की ऑब्जर्वेशन अवधि को पूरा कर लिया है, इसलिए इन पर से सर्विलांस हटा दिया गया है। वहीं, अन्य संदिग्ध मरीजों को होम सर्विलांस पर रखकर निगरानी की जा रही है। इन मरीजों को सार्वजनिक स्थलों पर जाने से मना किया जा रहा हैं।बिहार में अब तक एक भी कोरोना वायरस के मरीज नहीं पाए गए हैं, बावजूद सभी संदिग्ध मरीजों की निगरानी की जा रही है। राज्य के सभी मेडिकल कॉलेज अस्पतालों में संदिग्ध मरीजों को सर्विलांस पर रखने के लिए आइसोलेशन वार्ड बनाए गए है। वहीं, जिला अस्पतालों में भी कोरोना के संदिग्ध मरीजों को लेकर पांच बेड सुरक्षित रखने का निर्देश दिया गया है। सर्दी, खांसी व कफ के इलाज को लेकर आवश्यक दवाएं भी मुहैया करायी गई हैं। इसके अतिरिक्त अस्पताल के डॉक्टरों एवं कर्मियों के लिए स्पेशल किट के इंतजाम की गई हैं। मरीजों को मास्क भी उपलब्ध कराने की व्यवस्था की गयी है।

Post a Comment

0 Comments