सुपौल : सरकारी अस्पताल से लेकर प्राइवेट अस्पताल ने पैसे के लालच में घुमा-घुमा कर एक व्यक्ति की ली जान।

 सुपौल : सरायगढ़ भपटियाही में पिकअप से एनएच 57 पर दुर्गानंद का एक्सीडेंट हो गया। वहीं परिजनों ने इसकी सूचना थाना को दिया जिसके बाद प्राथमिक उपचार के बाद सदर अस्पताल सुपौल भेज दिया। आप को बतादे की सदर अस्पताल  पहुचने के बाद मौके पर सदर अस्पताल में न ही कोई गार्ड और न ही कोई डॉक्टर मिले।हालांकि 10 से 15 मिनट के बाद डॉक्टर आये और सदर अस्पताल दूसरे जगह रेफर कर दिया।
सरकारी एंबुलेंस नहीं होने के कारण प्राइवेट एंबुलेंस बुलाकर सुपौल के ही प्राइवेट अस्पताल लाइफ लाइन लाया गया। जहां करीब दोपहर 2 बजे से शाय 7 बजे तक लाइफलाइन अस्पताल में इलाज करवाने के बाद डॉक्टरों ने दूसरे जगह रेफर कर दिया और 65000 का बिल देने को कहा ।ताजूब की बात तो यह है कि परिजनों से पैसे का बिल और रेफर का पर्ची भी नहीं दिया। फिर परिवार वालों ने 5000 का एंबुलेंस कर दरभंगा के पारस अस्पताल ले गया जहां डॉक्टरों ने कहा की यह पहले ही मर चुका है।


Post a Comment

0 Comments