सुपौल : निर्मली में अनुमंडल स्तरीय सतर्कता एवं अनुश्रवण समिति की बैठक की गई आयोजित।

सुपौल : अनुमंडल कार्यालय निर्मली परिसर में अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति अत्याचार निवारण को लेकर अनुमंडल स्तरीय सतर्कता एवं अनुश्रवण समिति की बैठक आयोजित की गई।एसडीम नीरज नारायण पांडेय की अध्यक्षता मे आयोजित इस बैठक में एसडीपीओ बैजनाथ सिंह, सहित अन्य पदाधिकारी मौजूद रहे।

इस दौरान एसडीएम श्री सिंह ने कहा कि एससी-एसटी कोटि के किसी व्यक्ति को अगर प्रताड़ित किया जाता है तो वैसे पीड़ित एसडीओ के पास आकर अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं।अगर किसी एससी एसटी समुदाय के लोग की आपसी रंजिश में हत्या हो गई हो तो आजीविका चलाने में असक्षम उनकी विधवा एफआईआर की कॉपी लेकर आवे।जिसके बाद उस आवेदन को जिलास्तरीय कमेटी को भेज दिया जाएगा।ताकि आजीविका के लिए जिला स्तरीय टीम कोई व्यवस्था कर सके।वहीं आपसी रंजिश के कारण हुई घटना के बाद भी थाना में अगर मुकदमा दर्ज नहीं हो रहा हो, तो उसे अनुमंडल कार्यालय में आवेदन जमा कर सकते हैं।परंतु यह ध्यान रहे कि गलत केस न हो और निर्दोष को नहीं फंसाया जाए।


वहीं एसडीपीओ  बैजनाथ सिंह ने अनुसूचित जाति, जनजाति अत्याचार अधिनियम 1989 के सफल क्रियान्वयन तथा अनुसूचित जाति, जनजाति अत्याचार के तहत प्राप्त होने वाले विभिन्न मामलों को ससमय निष्पादित करने का निर्देश दिया। मौके पर निर्मली बीडीओ रामविजय पंडित, सीओ विनोद कुमार गुप्ता, प्रधान सहायक रविशंकर कुमार सहित अन्य पदाधिकारी मौजूद थे।

Post a Comment

0 Comments