सुपौल : दिवंगत बजरंग भगत की पुण्य तिथि पर हुआ श्रद्धांजलि सभा का आयोजन

सुपौल : वैश्य यूवा महासभा के पूर्व जिलाध्यक्ष दिवंगत बजरंग भगत की षष्ठी पूण्यतीथि पर गुरूवार को श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया। छातापुर प्रखण्ड मुख्यालय स्थित बजरंग चौक के समीप दिवंगत बजरंग भगत के आवास पर आयोजित कार्यक्रम में जिले भर से कई जनप्रतिनिधि,राजनैतिक दलों के प्रतिनिधि व गणमान्य लोग पहूंचे, और श्री भगत को याद कर उनके तैलिय चित्र पर श्रद्धासुमन अर्पित किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता सर्वदलिय संघर्ष समिति बीरपुर के अध्यक्ष लालमोहन रस्तोगी ने की, जबकि संचालन कांग्रेसी नेता सुशील कुमार मंडल कर रहे थे।
श्रद्धांजलि सभा में वक्ताओं ने स्व बजरंग के मात्र 35 वर्ष के जीवनकाल की चर्चा करते उसे छातापुर के भगत सिंह की संज्ञा दी, कहा कि स्व बजरंग एक व्यक्ति ही नहीं एक विचार थे, जो हर समय दलगत भावना से उपर रहकर लोगों को न्याय दिलाने के लिए संघर्ष करते थे, अपने कर्मों की बदौलत वे किसी भी जाति या समुदाय के चहेते बन जाते थे,बुढे हो या बच्चे सभी से उनका लगाव रहता था, उनमें सरल स्वभाव और सशक्त व्यक्तित्व का यैसा मिश्रण था कि आज भी बजरंग हमसभी के दिलों पर राज करते हैं और उन्हें श्रद्धांजलि देने एकत्रित हुए हैं, इस  दौरान स्व श्री भगत को प्रणेता व महापुरुष जैसे शब्दों से भी संबोधित किया गया। मौके पर कई वक्ताओं ने बजरंग चौक के समीप श्री भगत का स्टैचू लगवाने का अनुरोध किया और इसमें हरसंभव सहयोग का भरोसा भी दिलाया। कार्यक्रम आयोजित करने के लिए स्व श्री भगत के भाइयों की प्रशंसा भी की गई।कार्यक्रम का समापन दिवंगत भगत के अनुज व मंडल भाजपा मिडिया प्रभारी रामटहल भगत ने धन्यवाद ज्ञापन कर किया।
श्रद्धांजलि सभा में थानाध्यक्ष अनमोल कुमार,शिशुपाल सिंह बच्छावत,शत्रुघन प्रसाद चौधरी, मोहम्मद अलि,जयकुमार भगत, प्रताप सिंहा, चुन्ना भगत, उमेश भगत, पंकज कुमार साह, मजहरूल हक, डा क्रांति गांधी, डा चंदन यादव, ललन कुमार यादव, गायत्री देवी,ललितेश्वर पांडेय,केशव कुमार गुड्डू, उपेंद्र भगत, गौरीशंकर भगत,गिरीश प्रसाद गुप्ता,नवरत्न जैन, राजेश जैन, परवेज हयात,अरविंद राय,मंटू भगत, गुंजन भगत, मो जियाउल, मुमताज अलि, शिवलाल यादव,सुभाष कुमार यादव, खलिकूल्लाह अंसारी, पंकज भगत, हरेंद्र कर्ण,  जयनारायण कुसियैत, मुर्सलिम, गुड्डू खान,शंकर साह, अमोद यादव,छोटू भगत , राहुल भगत टिंकू, मुकेश कुमार गुड्डू आदि थे।

Post a Comment

0 Comments