मधुबनी : पाँच वर्ष में बदले गए चार प्रभारी एचएम , किन्तु नही सुधर सकी अब तक विद्यालय की हालत

मधुबनी : जिले के अंधराठाढ़ी प्रखंड में  विगत पांच वर्षों में चार प्रभारी प्रधानाध्यपक बदले परंतु विद्यालय की हालत नहीं सुधरी। मामला  मदना पंचायत के उत्क्रमित  मध्य विद्यालय जमैला उर्दू  का है। नियमित पठन पाठन, साफ सफाई , एमडीएम आदि योजनाएं  विफल है । यहां के विधि व्यवस्था और पढ़ाई की व्यवस्था से ग्रामीण आम जनता खाशे परेशान है। इधर विद्यालय में बच्चो के उपस्थिति चिंता जनक हो गई है । लोगो को मानना है कि पाठ टीका के मुताबिक स्कूल में पढ़ाई लिखाई हो ती तो स्कूल में छात्र छात्राओं की उपस्थिति नही बिगती। नियमित मद्याहन भोजन भी नहीं बनता है। बनता है तो साप्ताहिक मीनू का ख्याल नहीं रखा जाता। कम बच्चो की उपस्थिति के कारण कई शिक्षक एवं शिक्षिका विद्यालय पहुंचते है। वीना वर्ग संचालन किए आराम से घर लौट आते  हैं।
ग्रामीण मोहम्मद मुस्लिम मौलाना ने बताया कि इस स्कूल में विधि व्यवस्था का कोई चीज नहीं रहा। स्कूल टाइम में अधिकांश बच्चे  के छत पर खेलकूद  नजर आते है। कोई शिक्षक  उसे  डांटते तक नहीं हैं । कभी भी कोई बरी अनहोनी घटना हो सकती है।  इस संबंध में प्रधानाध्यापक मोo शहाबुद्दीन से पूछने पर  बताया कि सुधार के लिए प्रयत्नशील है। सब व्यवस्थित हो जाएगा। सोमवार को विद्यालय में  5 शिक्षक उपस्थित थे और 5 शिक्षक प्रशिक्षण कार्य से विद्यालय में नहीं थे। एक शिक्षक अवकाश में था। वताते चले कि विगत पांच वर्षों में चार प्रधान शिक्षक  बदले गए। मो सलाउद्दीन, मो अतीक , रौशन आरा, मो शाबुद्दी न प्रधान शिक्षक बने। मो शहाबुद्दीन वी पी एस सी से चयनित शिक्षक है। उच्चशिक्षाधरी एवं हाजी भी है। इस संबंध मै बी आर पी लाल बाबू कामत ने बताया कि पहले के अपेक्षा शिक्षण प्रणाली में सुधार हुआ है। जो कमिया है सुधार का प्रयास किया जा रहा है।

Post a Comment

0 Comments