सुपौल : बच्चों के भविष्य से खिलवाड़ कर रहे है शिक्षक

सुपौल : बच्चों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा देकर भविष्य सँवारने वाले शिक्षक ही बच्चो के वार्षिक मैट्रिक की परीक्षा का बहिष्कार कर बच्चों के भविष्य को अंधकार में धकेल रहा है।ज्ञातव्य हो कि 17 फरवरी 2020 से सरकार के निर्देशानुसार मैट्रिक परीक्षा का तिथि निर्धारित किया गया है।
किंतु सरकारी शिक्षकों द्वारा मैट्रिक परीक्षा की निर्धारित तिथि से ही अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने का निर्णय लिया गया है।जो बच्चो के हित मे नही है।बच्चों के भविष्य को देखते हुए शिक्षको को मैट्रिक परीक्षा समाप्त होने के बाद ही हड़ताल पर जाने का निर्णय लिया जाना उचित था।निर्मली अनुमंडल क्षेत्र के शिक्षाविदों एवं मैट्रिक परीक्षार्थी बच्चों के अभिभावकों ने शिक्षको द्वारा उठाये गए हड़ताल के इस कदम की आलोचना किया है।

Post a Comment

0 Comments