सुपौल : HPS COLLEGE निर्मली द्वारा आयोजित सात दिवसीय विशेष शिविर के पांचवें दिन कार्यक्रम में इतिहास के प्रोफेसर ने जलजीवन और हरियाली विषय पर दिया उदबोधन

सुपौल : राष्ट्रीय सेवा योजना द्वितीय इकाई, हरि प्रसाद साह महाविद्यालय निर्मली द्वारा आयोजित सात दिवसीय विशेष शिविर के पांचवें दिन शुक्रवार को कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में इतिहास के प्रोफेसर मोहम्मद तौकीर हाशमी ने जलजीवन और हरियाली विषय पर उदबोधन दिया ।
उन्होंने ने कहा कि जल जीवन हरियाली मानव जीवन के विकास के लिए अति महत्वपूर्ण विषय है।वृक्षों के संरक्षण के साथ ही वृक्षारोपण को बढ़ावा देना एवं भूमिगत जल के अत्यधिक दोहन पर सम्यक रूप से विचार करना धारणीय विकास के लिए अत्यधिक महत्वपूर्ण हो गया है। इसके लिए वर्षा जल संरक्षण को बढावा दिया जाना चाहिए। पारिस्थितिकी संतुलन हेतु जल चक्र का संतुलन बने रहना आवश्यक है। अतः वृक्षारोपण के साथ ही अनावश्यक जल के दुरुपयोग पर भी विचार किया जाना चाहिए। जल है, हरियाली है, तभी जीवन संरक्षित है।वही कार्यक्रम पदाधिकारी डॉ कृष्ण चौधरी ने जलजीवन और हरियाली के बारे में बताया कि यह मनुष्य के जीवन में उतनी ही आवश्यकता है जितने की प्राण ।
डॉ चौधरी ने कहा कि प्रत्येक स्वयंसेवक प्रति वर्ष एक पेड़ अवश्य लगाएं। इससे पर्यावरण के साथ साथ जन जीवन भी सुधर जाएगा। आज के इस सत्र में भाग लेते हुए इंटरमीडिएट की स्वयंसेविका गुड़िया कुमारी ने सभी स्वयंसेवकों को प्रतिवर्ष एक पेड़ लगाने के लिये शपथ दिलाई।दिल्ली पब्लिक स्कूल के निदेशक ने अंत में सभी को धन्यवाद देते हुए कहा कि राष्ट्रीय सेवा योजना के तहत पूरे देशवासियों को सूखा, बाढ़ एवं प्रदूषण से राहत मिलेगी।इस अवसर पर ग्रामीण कामेश्वर प्रसाद साहू, रंजीत प्रसाद साहू, कॉलेज के डॉ ललन कुमार, डॉ श्याम कुमार चौधरी शामिल हुए।

Post a Comment

0 Comments